Saturday, December 6, 2014

अनुलोम-विलोम प्राणायाम (ANULOM-VILOM PRANAYAM)



      दाएँ हाथ को उठकर दाएँ  हाथ के अंगुष्ठ के द्वारा दायाँ स्वर तथा अनामिका व् मध्यमा अंगुलियों के द्वारा बायाँ स्वर बन्द करना चाहिए। हाथ की हथेली नासिका के सामने न रखकर थोड़ा ऊपर रखना चाहिए।
विधि:
      अनुलोम-विलोम प्राणायाम को बाए नासिका से प्रारम्भ करते है। अंगुष्ठ के माध्यम से दाहिनी  नासिका को बंध करके बाई नाक से श्वास धीरे-धीरे अंदर भरना चाहिए। श्वास पूरा अंदर भरने पर ,अनामिका व् मध्यमा से वामश्वर को बन्ध  करके दाहिनी नाक से पूरा श्वास बाहर छोड़ देना चाहिए। धीरे-धीरे श्वास-पश्वास की गति मध्यम और तीव्र करनी चाहिए। तीव्र गति से पूरी शक्ति के साथ श्वास अन्दर भरें व् बाहर निकाले व् अपनी शक्ति के अनुसार श्वास-प्रश्वास के साथ गति मन्द,मध्यम और तीव्र करें। तीव्र गति से पूरक, रेचक करने से प्राण  की तेज ध्वनि होती है। श्वास पूरा बाहर निकलने पर वाम स्वर को बंद रखते हुए दाए नाक से श्वास पूरा अन्दर भरना चाहिए तथा अंदर पूरा भर जाने पर दाए नाक को बन्द करके बाए नासिका से श्वास बाहर छोड़ने  चाहिए। यह एक प्रकियापुरी हुई। इस प्रकार इस विधि को सतत करते रहना। थकान होने पर बीच में थोड़ा विश्राम करे फिर पुनः प्राणायाम करे। इस प्रकार तीन मिनिट से प्रारम्भ करके  इस प्राणायाम को १० मिनिट तक किया जा सकता है।
लाभ:
१.      इस प्राणायम से बहत्तर करोड़,बहत्तर लाख,दस हजार दो सौ दस नाड़ियाँ परिशुद्ध हो जाती है।
२.     संधिवात,कंपवात,गठिया,आमवात,स्नायु-दुर्बलता आदि समस्त वात रोग,धातुरोग,मूत्ररोग शुक्रक्षय ,अम्लपित्त ,शीतपित्त आदि समस्त पित्त रोग,सर्दी,जुकाम,पुराना नजला,साइनस,अस्थमा,खाँसी,टान्सिल  समस्त रोग दूर होते है।
3.     इस प्राणायाम का नियमित अभ्यास करने से तीन-चार माह में ३०% लेकर ५०% तक ब्लोकेज खुल जाते है। कोलेस्ट्रोल,एच. डी. एल. या एल. डी. एल. आदि की अनियमितताएं दूर हो जाती है। इस प्राणायाम से तन,मन,विचार छ संस्कार सब परिशुद्ध होते है। 

IN ENGLISH:



    Right by the right hand thumb up tone and ring finger of the right hand middle finger by expenditure should stop tone left. Slightly with the palm of the hand should not be in front of the nostrils.

 Method: 
     Start with the left nostril breathing is morganatic-inverse. The left thumb ligament through the right nostril breathing through the nose to fill in gradually. To fill in the full breath, left middle finger expenditure Shwar bound to be left out of the right nasal breathing complete. Slow pace of breathing Pswas should moderate and intense. Fill in full force with rapid breathing expenditure excluded persons with breathing deceleration according to his power, to moderate and intense. Supplemental fast, sharp sound of life is to laxative. Left off exit tone full breath taking full breaths in through the nose to fill the inside of the right to complete and close the right and left nostril breathing nose should drop out. It was a Prkiapuri. This method will thus remain constant. Then again when stressed to a rest in between to pranayama. Thus, starting from three minutes to 10 minutes and can be done in this pranayama.

Benefits:

1. Seven hundred and twenty million of the Pranayam, 7.2 million, ten thousand two hundred ten nerves are accurate.

 2. Rheumatoid,Nervous system And all gout, Nephrology,pyrosis, urticaria and all gall disease,cold, chronic catarrh, sinus, asthma, cough, Tonsil all diseases are away.


3. The regular practice of pranayama, ranging from 30% to 50% in three to four months is open Blokej. Cholesterol, H. D. L. Or l. D. L. Etc. irregularities are away. This pranayam body, mind, consider all six rites are accurate.

No comments:

Post a Comment