Monday, March 23, 2015

हदय रोग और वात रोगो से छुटकारा पाने के लिए करिये... अपान वायु मुद्रा(Apan Vayu Mudra)

विधिः 
 अपानमुद्रा तथा वायु मुद्रा को एक साथ मिलाकर करने से यह मुद्रा बनती है। कनिष्ठा अंगुली सीधी होती है। 



                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                     

लाभ:

हदय एवं वात रोगो को दूर करके शरीर में आरोग्य को बढाती है। जिनको को दिल की बीमारी है , उन्हें इसे प्रतिदिन करना चाहिए। गैस  की बीमारी को दूर करता है। सिरदर्द,दम एवं उच्च रक्तचाप में लाभ मिलता है।                                                               

No comments:

Post a Comment