Saturday, February 21, 2015

ज्ञान मुद्रा(Gyan mudra)

ज्ञान मुद्रा या ध्यान मुद्रा : अंगुष्ठ एवं तर्जनी अंगुली के अग्रभागों के परस्पर मिलाकर शेष तीनों अँगुलियों को सीधा रखना होता है। 



 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           
लाभ : धारणा एवं धयानात्मक स्थिति का विकास होता है ,एकाग्रता बढ़ती है एवं नकारात्मक विचार कम् होते है। इस मुद्रा से स्मरण शक्ति बढ़ती है इसलिए इसके निरंतर अभ्यास से बच्चे मेघावी व् ओजस्वी बनते है। मष्तिष्क के स्नायु मजबूत होते है एवं सिरदर्द,अनिद्रा व् तनाव दूर होता है तथा क्रोध का नाश होता है।                 

1 comment:

  1. Yoga has a mysterious charm. Reading about its manyYoga Asanas benefits and looking at the super flexible Yogis practice the asanas with ease can be quite enticing.

    ReplyDelete